सेक्सी लड़की का नंबर दीजिए

मायजिओ की चुदाई

मायजिओ की चुदाई, संध्या-आजा सूर्या बैठ जासंध्या सूरज को बेड पर बैठने का इशारा करती है,तभी सूरज बेड पर रखे ब्रा और पेंटी को उठाता है। संध्या- अगर तुझे लगता है मधु की तुझे जरुरत है तो तू जा सकता है, में तुझे कुछ नहीं कहूँगी, या मन और इच्छाओं को कंट्रोल करना सीख जा

होगी लेकिन उसने तो मिरर मे मुझे हंस कर देखा ऑर बोली,,,,,भाई ड्राइव पर ध्यान दो प्लीज़ ऑर ज़्यादा एंजाय म्मीरररी ब्बूबबस क्कूव प्प्प्ुउउर्रा म्मूउहह म्मी बभ्ाररल्ल्लूओ ऊरर जजूर्र ससी ककाटटूऊ मीररी ब्बूबबसस

दिल तो करता है सन्नी लेकिन डर भी लगता है,,,,मैं कैसे माँ के सामने जाउन्गी,,,मुझे तो शर्म आती है,,,,,ऑर वैसे भी अगर इस बात का डॅड ऑर बुआ को पता चल गया तो मुश्किल होगी,,,,, मायजिओ की चुदाई संध्या-ओह्ह्ह सूर्या ये क्या कर रहा है उसे मुझे दे दे,तू मत पकड़ वो गन्दा है संध्या सूरज को रोकती है लेकिन सूरज मानता नहीं है और डिडलो नुमा रबड़ के लंड को देखने लगता है । उस पर संध्या के चूत का कामरस लगा हुआ था जो सुख चुका था।

सबसे पहले टेलीविजन का आविष्कार किसने किया

  1. मैं भी तेज़ी से साँस ले रहा था ऑर मामा भी ,,,,मामा का लंड सॉफ करने के तुर्रंत बाद ही माँ दीदी की चूत की तरफ
  2. सूरज-ठीक है माँ आप जाओ,में भी कोई पुराना कपडा ढूंढ कर पहन लूंगा रेखा जाने लगती है,अभी भी तेज बारिश हो रही थी, रेखा बीच आँगन में ही पहुँच पाई थी,तभी बिजली तेजी से कड़की पुरे आँगन में रौशनी ही रौशनी हो जाती है,सूरज की नज़र रेखा की गांड और पुरे बदन पर पड़ी,रेखा लम्बी थी,उसका कमर पतली और गांड मोटी थी। दहावी प्रश्नपत्रिका 2019
  3. देखा बाली एक भाई का प्यार देखा ,मैं भी अपने बहन को ऐसे ही प्यार करता था ,और तू और तेरा भाई इसीतरह मेरी प्यारी सी बहन को मुझसे दूर ले गए,याद है वो दिन जब मैं अपनी बहन के सर पर यू ही पिस्तौल टिका कर खड़ा था ,और वो वीर के सामने ऐसे ही खड़ी थी….. मुँह मे घुसा दिया ऑर उसके मुँह मे हर तरफ घुमाने लगा ऑर बड़े प्यार से उसके लिप्स को चूसने लगा ,,,,क्या
  4. मायजिओ की चुदाई...देखिए मैं आपको पसन्द करती हु (वो झूट बोल रही थी )इसलिए मैं ये चाहती हु की आप अपने बीवी को भी मजा करने दो और मेरे साथ आप मजे करोमेरे दिल में नेहा के लिए एक आभार आया,वो अपनी सहेली के लिए मेरे साथ ये सब करने को तैयार हो गई,शायद टाइगर को भी इसका पता ना हो ,मैं मुस्कुराया नही अमित मैं ऐसा नही कर सकती प्लज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़्ज़,नही अमित,प्ल्ज़्ज़ मत करो ,,,,,तभी फिर से उसकी आवाज़
  5. अजय में पूरी तरह से वीर के गुण थे अपने भाई बहनों पे अपनी जान छिडकता था वही विजय और किशन बाली जैसे थे अपने भाई की हर बात को सर आँखों पर रखते थे,विजय तो पूरा ही बाली जैसा था अपने चाचा की तरह ही भाई भक्त और ऐयाश और बलशाली... करण--शिखा दीदी की,,,,,,,,,इतना बोल कर वो फिर से रोने लगा ऑर अमित को माँ बेहन की एक से एक बढ़ कर गालियाँ देने लगा,,,,,,,,,,,,

कन्नड भाषा मराठी मध्ये

महेंद्र ने निधि को गले से लगा कर अजय को भी अपने पास बुलाया और उसे अपने गले से लगा लिया विजय को ये बिल्कुल भी पसंद नही आ रहा था पर वो मजबूरी में वहां खड़ा था …

कपड़े उतारने की,,,, ऑर अगर ये पट्टी उतर गई तो मैं यहाँ से चली जाउन्गी ऑर तुझे तेरा दूसरा सर्प्राइज़ भी संध्या-आह्ह्ह्होह्ह्हफ़्फ़्फ़्फ़् सूर्या तेरी जीव्ह भी तेरे लंड की तरह लंबी है, ऐसा लग रहा है जैसे में मेरी चूत में लंड घुसा हो संध्या सिसकियाँ लेती हुई बोली। दस मिनट तक चूत चाटने के बाद सूरज संध्या को घोड़ी बना कर चूत में लंड डालकर चौदने लगता है ।

मायजिओ की चुदाई,मैं उसे सुनकर भी अपनी आंखे नही खोली मुझे दो लोगो ने पकड़ रखा था,उनमे से एक बड़ा कमीना सा था ,थोड़ी ही दूरी लाने तक ना जाने कितने बार वो मेरे बड़े बड़े बूब्स से खेल चुका था ,कभी उसे दबाता तो कभी सहलाता,लेकिन मैं तो बेहोश थी ना…..

ऑर भी कुछ है क्या पता लगाने को सन्नी बेटा,,,,,,माँ ने मेरे से सवाल किया तो मैं समझ गया कि माँ को शायद

कहानी ये थी की मिश्रा की इमेज लड़कियों के मामले में बहुत ही अच्छी थी ,पर हकीकत कुछ और ही थी,उसे कलियों का शौक हमेशा से रहा है,ये बात कुछ ही लोग जानते है जो उसे लडकिया सप्लाय करते थे,जैसे की मेरा खास टाइगर…ರೇಷ್ಮೆ ಸೀರೆ ತೋರಿಸಿ

नही मैने कब बोला कि आप झूठ बोल रही हो,,,,मैं तो मज़ाक कर रहा था भाभी,,,,वो रात को सोनिया ने जो बोला था मैं तो उसी की बात कर रहा था रेखा-',सूरज ये क्या कर रहा है? सूरज पलट कर रेखा को देखता है,रेखा नायटी में ब्रा नहीं पहनी थी इसलिए उसके बूब्स आधे से ज्यादा दिखाई दे रहे थे और बालो से पानी टपक रहा था । रेखा बहुत सेक्सी लग रही थी ।

रेखा-आप दे दीजिए सेल्स गर्ल ब्रा और पेंटी पैक करके दे देती है। पेमेंट गर्ल क्रेडिट कार्ड से पैसे काट कर क्रेडिट कॉर्ड सूरज को दे देती है । रेखा और सूरज तुरंत मॉल से निकल आते हैं, ऐसा लग रहा था जैसे कोई चुड़ैल उनके पीछे लग गई हो ।

अमित के दोस्तो ने उसको हाथ से पकड़ा ऑर वहाँ से ले गये क्यूकी अमित के खिलाफ पहले से बहुत शिकायत थी कॉलेज मेइसलिए वो कोई पंगा नही कर सकते थे,,,,,लेकिन जाते टाइम अमित सुमित को माँ बेहन की 2-4 गालियाँ ज़रूर सुना गया,,,मायजिओ की चुदाई लिप्स के पीछे इतनी गर्मी हो सकती है,,,,,उसने मेरी उंगली को मूह मे लिया ऑर चूसने लगी ऑर अपनी आँखें वापिस

News