हिंदी में विडियो सेक्सी फिल्म

সেক্সচুদাচুদি সেক্স

সেক্সচুদাচুদি সেক্স, तभी आशा की नज़र मुझ पर पड़ी… मुझे एकटक घूरता पकड़ उसने एक दबी से मुस्कान दी और अपना आँचल संभाल कर अपने पपीतों को छुपा लिया। प्रिन्सिपल अपनी छोटी बेटी के पास गया वो मस्त नटखट हस रही थी... और होंठो को एक दूसरे पे फेर के वातावरण को गरमागरम बना रही थी

मैं भी अपने स्तनो को मसल-मसल कर कस्टमर्स को ललचा रही थी. और चाची ने मुझे दूर से देखकर इशारो मे कहा- बहुत अच्छे !! वो दिन मेरी लिए वहाँ आखरी दिन था……..मैने सब से विदा लिया. वहाँ से जाते वक़्त सारी लड़कियाँ मुझसे गले मिल- मिल कर रो रही थी. सबसे दुखी तो चाची थी. आख़िर उनकी सबसे पसंदीदा और कस्टमर्स की जान जो अब वो जगह छ्चोड़ के जा रही थी.

में जोरों से अपनी ज़ुबान उसकी चूत पर फिरा रही थी. उसकी चूत और गरम और कड़ी होती जा रही थी. पर मेरे मन में तो आज उसकी चूत के साथ पूरी तरह खेलने का था, में बिस्तर से उठी और अपनी अलमारी से एक डिल्डो निकालने लगी. সেক্সচুদাচুদি সেক্স उस समय मैं माँ के दोनों स्तन देख रहा था जो गाउन में से झांक रहे थे। क्या संतरे थे- मानो कि अभी दबाओ तो कई ग्लास भर कर जूस निकलेगा उसमें से !उन्होंने मुझे देख कर कहा- क्या देख रहा है तू इधर मेरे उभारों को घूर कर ?

ग्रैंड मदर सेक्सी वीडियो

  1. अब वो नशे में था! वो मेरे बगल में आ गया और मैने पैरों पर रज़ाई डाल ली! उसमें से पसीने की खुश्बू आ रही थी, तीखा मर्दाना देसी पसीना!
  2. शुक्रवार की सुबह प्रशांत अपने काम से चला गया. मैं और बबिता दोनो दोपहर को खाने के टेबल पर बैठे थे कि रश्मि भी हमारे साथ आ बैठ गयी. शाम तक हम सब बातें करते रहे. बबिता रश्मि के साथ काफ़ी घुलमिल गयी थी. বেঙ্গালোর সেক্স
  3. मैंने सर झटक दिया.....अब धीरे धीरे दुर्घटना बिसरने लगी और सनसनी और हवा में उड़ना याद आने लगा....मुझे रोमांच होने लगा ... पलक के जाने के बाद आंटी ने दरवाजा बंद किया, मैंने आंटी को बाँहों में जकड़ लिया और उनकी गर्दन पर चूमना शुरू कर दिया।
  4. সেক্সচুদাচুদি সেক্স...उस रात मैने आकाश को अपने साथ ही सुला लिया! हम लिपट के सोये, रात काफ़ी बातें हुई! आकाश ने मुझे बताया कि उसको अक्चुअली थ्रीसम बहुत पसंद है और अगर कोई और मिले तो मैं उसको बुला सकता हूँ! मैने भी कह दिया कि मिलेगा तो बता दूँगा! अगली सुबह वो चला गया! मगर रात भर हमनें खूब बातें की! हां ये सही है. तुम जानती हो कि हम तीनो आपस मे चुदाई करते है. और तुम भी हम दोनो का साथ दे चुकी हो तो क्यों ना हम चारों साथ साथ चले. रवि ने कहा और रश्मि ने भी अपनी गर्दन हिला दी.
  5. फिर हम लोगो ने उधर ही बैठ के थोड़ी देर बातें की.. अब 8 बज चुके थे. बाहर अंधेरा हो चुका था. तभी सेठ जी ने बोला की हमे आरती के लिए गाव के बाहर लगभग 2 घंटे का सफ़र करके मंदिर जाना है जहाँ आज बहू आने की खुशी मे माताजी की पूजा रखी है. कोई बात नहीं... मैं समझती हूँ... तुम्हारी उम्र के लड़के तो ये सब करते ही हैं लेकिन अपनी आँटी के सामने कुछ तो लिहाज करो... अब बंद करो इसे...। उन्होंने फिर मुस्कुराते हुए कहा मैंने सी.डी प्लेयर बंद कर दिया और वो मेरे पास आकर बैठ गयी और बोली, क्या बात करनी है... बोलो।

सलमान खान की कितनी फिल्में हैं

मैं – अरे ऐसे ही ..इस क्रिया मे ज़्यादा मज़ा आने के लिए रुमाल मुँह मे घुसाते है उससे बहुत ज़्यादा मज़ा आता है....

यार, इसका मतलब है - खड़े लंड पर धोखा. हम बाहर निकल आए. एक दूसरे की ओर देख'कर प्यार से हँसे और हाथ में हाथ लिए चल'ने लगे. प्रीतम ने कहा तब तो मेरे गले में निवाला अटक ही गया था, सच मैं बोल नहीं सकता था और झूठ बोलना मुझे पसंद नहीं था तो मैंने बात को अनसुना ही कर दिया और आंटी ने भी दोबारा सवाल नहीं किया।

সেক্সচুদাচুদি সেক্স,मैं :- और मैने भी तुम्हे वहाँ देखा था. क्या तुम मे बिल्कुल भी शरम नाम की चीज़ नही है, कितना गंदा बर्ताव तुमने सीमा के साथ किया था रॉकी.

अरे हाँ, बस एक सवाल और क्या सुहागरात में आपकी चूत से मेरी ही चूत की तरह खून निकला था, सीधे शब्दों में क्या आपकी चूत सुहागरात तक अनचुदी थी?

उसकी बात सुनकर उसने भी आँख खोल ली, उसके आँख खोलते ही वो लड़की करवट ले कर लेट गई अब उसके चूतड़ उसके भाई के सामने थे।19052 श्रमिक एक्सप्रेस

थोड़ी देर में रवि ने मुझे कस के अपनी बाहों में पकड़ लिया और अपनी आँखे बंद कर के कराहने लगा। मुझे अपने चूत में गरम गरम सा कुछ महसूस हो रहा था। फ़ाइनली हम स्टेशन पहुँचे तो वहाँ सर्दी के मारे सन्‍नाटा था! कुछ लोग इधर उधर आग जलाये बैठे थे! उसने पार्किंग में गाडी खडी कर दी! 9 बजे थे!

अब नेहा का दर्द कम हो चला था, इसलिए मैंने अब अपने धक्कों की रफ़्तार कुछ तेज़ कर दी थी और अब नेहा भी कुछ मादक आवाज़ें निकाल रही थी।

और इतना चोदते है साले कि मेरी जान निकलने को होती है....पर तब भी मैं नही रुकती चोदे जाती हू.... फिर सब ठंडे पड़ जाते है...,সেক্সচুদাচুদি সেক্স आठ-दस मिनट की चुदाई के बाद उसका पूरा लण्ड मेरी चूत में घुस चुका था, मैं उसके लण्ड के सुपाड़े को अपनी बच्चेदानी के मुँह पर महसूस कर रही थी, जिससे मुझे और ज़्यादा मज़ा आ रहा था।

News